सरकारी नौकरी

आखिर निसंतान कपल्स क्यों करते हैं लिंग की पूजा, जानें राज


लकड़ी का माँ उसके लिए किसी सौभाग्य से कम नहीं है। निसंतान कपल्स बच्चे को पाने के लिए कुछ भी कर सकता है। भारत के पड़ोसी देश, भूटान में सीधे लिंग की पूजा होती आ रही है। सुनने में अजीब लग रहा है ना, लेकिन वहां की दीवारों पर लिंग की पेंटिंग्स और कलाकृतियां आम बात है। ये वहां की परंपरा में शामिल हैं। 

लिंग की पूजा:

इन सभी लिंग को अलग-अलग कलर्स में पेंट किया गया है। कुछ गिफ्ट रिबन की तरह होते हैँ। कहा जाता है कि लिंग की प्रतिमा बुरी आत्माओं को दूर रखती है और जलन की भावना से बचाती है। ऐसा माना जाता है कि इस तरह की पेंटिंग्स फर्टिलिटी भी बढ़ाती हैं। इसीलिए निसंतान कपल्स इसकी खासकर पूजा करते हैं।

क्या है लोगों की मान्यता:

दृक्पा कुंले नाम का एक विचित्र बौद्ध भिक्षु भूटान आया था जो कि मदिरापान, महिलाओं के साथ यौन संबंध और कामुकता में लिप्त था। वो इन्हें ही बौद्ध धर्म का तात्पर्य समझाता था। वो कहता था कि ‘घड़े की तली में सबसे अच्छी मदिरा होती है और जीवन का असली आनंद नाभि के नीचे ही मिलता है’।

कुंवारी कन्याओं के साथ यौन संबंध:

‘उर्वरता का संत’ कहलाने वाला ये भिक्षु कई दिन मदिरा के नशे में कुंवारी कन्याओं के साथ यौन संबंध बनाने में बिता देता था। 

मनुष्य को सांसारिक तृष्णा से दूर रहना चाहिए और सादा जीवन व्यतीत करने का अनुसरण करना चाहिए। कई निसंतान दंपति हर साल Chimi Lhakhang जो कि एक ‘उर्वरता मठ’ है, तीर्थ करने जाते हैं। यहां बौद्ध भिक्षु उन्हें आशीर्वाद में लकड़ी का लिंग देता है।

No comments