सरकारी नौकरी

Indian Railway: अब ट्रेनों में बनेंगे बायो वैक्यूम टाॅयलेट, दुर्गन्ध से मिलेगी राहत !


अब भारतीय रेलवे काफी उन्नति कर रहा है। नई तकनीक काम में ली जा रही है। अब टॉयलेट की दुर्गन्ध से ट्रेन में सफर करना है। हालांकि भारतीय रेलवे में ग्रीन टाॅयलेट की बात चलने लगी है। अब रेल नेटवर्क, दुर्गंध और शौचालय के सुव्यवस्थित तरीके से न बन पाने की परेशानियों को दूर करने का प्रयास कर रहा है। इसके लिए रेल में बायो वैक्यूम टाॅयलेट लगाने पर ध्यान दिया जा रहा है।

ट्रेनों में बनेंगे बायो वैक्यूम टाॅयलेट:

इससे यात्रियों को सुविधा होगी वहीं सफर के दौरान डिब्बों में स्वच्छता होगी और पैसेंजर्स को दुर्गंध नहीं आएगी। यह टाॅयलेट कुछ उसी तरह का है जैस हवाई जहाज में होता है। राजधानी और शताब्दी जैसी महत्वपूर्ण रेल सेवाओं के 100 डिब्बों में इस तरह के टाॅयलेट्स का उपयोग होगा। इसके बाद अन्य सवारी या यात्री गाड़ियों में इस तरह के टाॅयलेट का प्रबंध किया जाएगा।

क्या है बायो वैक्यूम टाॅयलेट:

बायो वैक्यूम टाॅयलेट को काफी उन्नत माना जाता है। इनका उपयोग हवाई जहाजों में होता है। इस टाॅयलेट में 1 लीटर पानी की आवश्यकता होगी। सारा मल वैक्यूम द्वारा खींच लिया जाएगा। इन टाॅयलेट्स का कुछ रेल सेवाओं में पाॅयलट आधार पर परीक्षण किया गया था।

ये है इसके फायदे:

इनके उपयोग से रेलवे में पानी के उपयोग की बचत होगी तो दूसरी ओर दुर्गंध की परेशानी नहीं होगी। फिलहाल चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में बाॅयो वैक्यूम टाॅयलेट के माध्यम से 100 डिब्बे तैयार किए जाऐंगे। 

No comments