सरकारी नौकरी

यहां श्री राम को माना जाता है राजा, दी जाती है बंदूकों से सलामी


हमारे धर्म में हनुमान जी को कलियुग के देवता माना जाता है। हिन्दू धर्म की मान्यता है कि अगर बजरंगबलि को खुश करना है, तो प्रभु श्रीराम का नाम ले लीजिए। इनका नाम लेने से जहां भगवान राम तो प्रसन्न होते ही हैं साथ ही बजरंगबलि भी खुश हो जाते हैं। यहां श्री राम को एक राजा के रूप में पूजा जाता है, इतना ही नहीं हर रोज बन्दूकों से इन्हे सलामी भी दी जाती है। 

श्री राम को माना जाता है राजा:

मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में स्थित ओरछा धार्मिक नगरी होने के साथ ही ऐतिहासिक शहर भी है। यहां पर राजा राम मंदिर स्थित है। मप्र पुलिस के जवानों द्वारा सूर्योदय और सूर्योस्त के समय मंदिर में बंदूकों द्वारा सलामी दी जाती है। यह सिलसिला काफी समय से जारी है।

क्या है मान्यताएं:

मना जाता हैं कि ओरछा की महारानी राजा राम के बाल रूप को अयोध्या से पैदल लेकर आईं थीं। रानी का नाम गणेशकुंवर था और राजा का नाम मधुरकशाह। रानी रामभक्त थीं। एक बार वह अयोध्या की तीर्थयात्रा पर गईं और वहां सरयू नदी के किनारे लक्ष्मण किले के पास अपनी कुटी बनाकर साधना आरंभ की।

रानी को हुए थे श्री राम के दर्शन:

इन्हीं दिनों संत शिरोमणि तुलसीदास भी अयोध्या में साधनारत थे। संत से आशीर्वाद पा कर रानी की आराधना और दृढ़ होती गई। लेकिन रानी को कई महीनों तक राजा राम के दर्शन नहीं हुए। वह निराश होकर अपने प्राण त्यागने सरयू की मझधार में कूद पड़ी। यहीं जल की अतल गहराइयों में उन्हें राजा राम के दर्शन हुए। रानी ने उनसे ओरछा चलने का आग्रह किया। और इस तरह साक्षात ओरछा आए।

No comments