सरकारी नौकरी

श्राद्ध में लगाए यह पौधा, प्रसन्न हो जाएगी आपके पूर्वजों की आत्मा


श्राद्ध पक्ष में पितर अपनी संतानों के बीच पृथ्वी लोक पर आते हैं, और संतान भी अपने पित्रों के निमित्त अपनी सामर्थ्य के अनुसार श्राद्ध कर्म, दान पुण्य जैसे अनेक छोटे बड़े कर्म श्रद्धापूर्वक करते ही हैं लेकिन क्या आप जानते है कि इसके अलावा भी एक ऐसा भी महान काम है जिसे करने से पितर खूब प्रसन्न हो जाते हैं।

पितर किस प्रकार प्रसन्न हो जाते हैं: 

पीपल वृक्ष को देव वृक्ष भी कहा जाता हैं, इसमें भगवान विष्णु जी का वास हैं और ऐसी मान्यता भी हैं, कि पित्रों का निवास स्थान भी इसी पर होता है, और वहीं से श्राद्ध की तिथियों के अनुसार अपने परिजनों के पास सुक्ष्म रूप से जाते हैं, और पितरों के निमित्त निकाले गए अन्न को ग्रहण करके प्राणवायु के रूप में पीपल पर लौट आते हैं।

पित्रों की याद में किसी मंदिर या अन्यत्र कही पवित्र स्थान पर पीपल का पेड़ लगाना चाहिए, क्योंकि पीपल वृक्षों की आयु सैकड़ों वर्षों की होती है, इस पेड़ को लगाने से पितरों का आशीर्वाद भी लम्बे समय तक मिलता है।

No comments