सरकारी नौकरी

रोज इस समय नहाने से चमक सकती है आपकी किस्मत, नहीं होगी पैसों की कमी


हमारे धर्म शास्त्र में यह कहा गया हैं की किसी भी व्यक्ति के लिए तन और मन की शुद्धि बहुत अवश्यक है और जो व्यक्ति सुबह सवेरे सूर्य उदय से पूर्व तारों की छाया में नहाता है उसके घर लक्ष्मी आती है और परेशानियों और बुरी शक्तियों से मुक्ति मिल जाती है। कर्म पुराण में बताया गया है, जो व्यक्ति प्रभात के समय स्नान कर लेता है, उसके पास लक्ष्मी की बहन अलक्ष्मी, बुरा दौर और डरावने स्वप्न कभी नहीं आते हैं।

नहाने का भी होता है समय:

# ब्रह्म स्नान: कहा जाता है जो लोग सुबह लगभग 4-5 बजे भगवान का नाम लेते हुए स्नान करते हैं उसे ब्रह्म स्नान कहते हैं और ऐसा स्नान करने से जीवन में सुख व खुशियों का समावेश होता है।

# देव स्नान: कहा जाता है जो लोग सूर्योदय के उपरांत स्नान करते हैं उसे देव स्नान कहा गया है और ऐसे स्नान से जीवन में आने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

# यौगिक स्नान: कहते हैं योग के माध्यम से अपने इष्ट का चिंतन और ध्यान करते हुए जो स्नान किया जाता है वह यौगिक स्नान कहलाता है और इसे करना तीर्थ यात्रा करने के समान होता है।

# दानव स्नान: कहा जाता है जो लोग चाय अथवा भोजन करने के उपरांत स्नान करते हैं उसे दानव स्नान कहा जाता है और उससे जीवन में घोर विपत्तियों का सामना होता है।

No comments