सरकारी नौकरी

जानिए 'पति' को क्यों दिया जाता है 'परमेश्वर' का दर्जा ??


हमारे देश में हमेशा सिखाया जाता है कि लड़कियों को सिखाया जाता है कि शादी के बाद पति ही उनका सबकुछ होता है। भारतीय समाज में लड़कियों से कहा जाता है कि हमेशा उन्हें पति का आदर करना चाहिए और पति ही उनका परमेश्वर होता है। आखिर पति को क्यों दिया जाता है परमेश्वर का दर्जा - पति परमेश्वर । हर किसी के मन में सवाल जरूर उठता होगा।

'पति' को क्यों दिया जाता है 'परमेश्वर' का दर्जा:

शादी के दौरान पति और पत्नी जब सात फेरे लेते हैं। तो वो उस समय सात वचन भी लेते हैं। वचनों की प्रक्रिया को शास्त्र सम्मत माना जाता है। इन वचनों के दौरान एक वचन ये भी होता है कि वो हमेशा पति के साथ-साथ चलेगी और सुख-दुख में हमेशा उसका साथ देगी। लड़कियों को ये भी कहा जाता है कि पत्नी की जगह पति के चरणों में होती है और इसके पीछे की वजह भगवाम विष्णु और माता लक्ष्मी को बताया जाता है।

जिस तरह मां लक्ष्मी हमेशा विष्णु भगवान के चरणों के समीप रहती हैं उसी प्रकार पत्नी को भी पति को ही अपना भगवान मानना चाहिए।

आज हम 21वीं सदी में जी रहे हैं और ऐसे में पति-पत्नी के बीच ये अंतर थोड़ा नाजायज सा लगता है। हालांकि हर किसी को ये समझने की जरूरत है कि एक तरफ तो हम लड़का-लड़की के बराबर होने की बात करते हैं दूसरी तरफ हम शादी के बाद लड़कियों को पति के पैरों पर पटक देते हैं।

No comments