सरकारी नौकरी

loading...

किन्‍नर इस देवता की सिर्फ पूजा ही नहीं बल्कि करते है ये ख़ास काम !!


किन्नरों की दुनिया आम आदमी की दुनिया से एकदम अलग तरह की दुनिया है जिनके बारे में आम लोगों को जानकारी कम ही होती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हमारी तरह वे किस देवता की पूजा करते हैं। वास्तव में अर्जुन और उलुपी के पुत्र ‘अरावन’ किन्नरों के देवता है। खास बात ये है कि किन्नर इस देवता की सिर्फ पूजा ही नहीं करते बल्कि उनके साथ विवाह भी रचाते हैं।

किन्नर करते है ये काम:

तमिलनाडु में अरावन देवता की पूजा की जाती है। कई जगह इरावन के नाम से भी जाना जाता है। अरावन देव को किन्नरों का देवता माना जाता है इसलिए दक्षिण भारत में किन्नरों को अरावनी के नाम से पुकारा जाता है। अरावन देवता महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक थे और युद्ध के दौरान उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। 

यहां मौजूद इस मंदिर की सबसे अनोखी बात यह है कि यहां पर अरावन देवता का विवाह किन्नरों से किया जाता है। यह विवाह साल में एक बार किया जाता है और विवाह के अगले दिन ही अरावन देव की मृत्यु हो जाने के साथ ही वैवाहिक जीवन भी खत्म हो जाता है। इसका संबंध महाभारत काल की एक अनोखी घटना से है।

महाभारत युद्ध में एक समय ऐसा आता है जब पांडवो को अपनी जीत के लिए मां काली के चरणों में स्वेचिछ्क नर बलि हेतु एक राजकुमार की जरुरत पड़ती है। जब कोई भी राजकुमार आगे नहीं आता है तो अरावन खुद को स्वेच्छिक नर बलि हेतु प्रस्तुत करता है लेकिन वो शर्त रखता है की वो अविवाहित नहीं मरेगा। इस शर्त के कारण बड़ा संकट उत्त्पन हो जाता है क्योकि कोई भी राजा, यह जानते हुए की अगले दिन उसकी बेटी विधवा हो जायेगी, अरावन से अपनी बेटी की शादी के लिए तैयार नहीं होता है।

No comments