सरकारी नौकरी

एक ही मंदिर में क्यों होती है हनुमानजी व शनिदेव की प्रतिमा, क्या है इनका रिश्ता ??


कई बार आपने देखा होगा हनुमानजी और शनिदेव की प्रतिमाएं पास में होती है। बजरंग बली श्री हनुमानजी और शनिदेव के बीच के रिश्ते के बहुत कम लोग ही जानते है।

क्या है इनका रिश्ता:

एक बार महावीर हनुमान श्रीराम के किसी कार्य में व्यस्त थे। उस जगह से शनिदेव जी गुजर रहे थे की रास्ते में उन्हें हनुमानजी दिखाई पडे। अपने स्वभाव की वजह से शनिदेव जी को शरारत सूझी और वे उस रामकार्य में विध्न डालने हनुमान जी के पास पहुच गये।

हनुमानजी ने तब शनिदेव जी को अपनी पूंछ से जकड लिया और फिर से राम कार्य करने लगे। इस दौरान शनिदेवजी को बहुत सारी चोटे आई। जब राम कार्य खत्म हुआ तब उन्हें शनिदेवजी का ख्याल आया और तब उन्होंने शनिदेव को आजाद किया।

क्यों चढ़ाते है सरसों का तेल:

शनिदेव जी भगवान श्री हनुमान से थोडा सरसों का तेल माँगा जिसे वो अपने घावो पर लगा सके और जल्द ही चोटो से उभर सके। हनुमानजी ने उन्हें वो तेल उपलब्ध करवाया और इस तरह शनिदेव के जख्म ठीक हुए। तब शनिदेव जी ने कहा की इस याद में जो भी भक्त शनिवार के दिन मुझपर सरसों का तेल चढायेगा उसे मेरा विशेष आशीष प्राप्त होगा।

No comments