सरकारी नौकरी

अगर पहली बार बना रहे है शारीरिक संबंध, तो जरुरी नहीं महिलाओं को...


आजकल के यूथ्स शादी से पहले ही कई बार शारीरिक संबंध बना लेते हैं, इसी के साथ वो सेफ सेक्स का भी ध्यान रखते हैं। हम में से कई लोग इन पर विश्वास भी करते हैं, जैसे कि पहली बार सेक्स करने पर महिला के प्राइवेट पार्ट से ब्लीडिंग होनी चाहिए। लेकिन शायद ही लोग जानते हों कि इन गलत फहमियों और भ्रांतियों की वजह से सेक्शुअल लाइफ पर बुरा असर पड़ता है। 

ये जानकारी भी होना है जरूरी:

# फर्स्ट टाइम सेक्स के दौरान महिला के प्राइवेट पार्ट से ब्लीडिंग होती है। यह उनकी वर्जनिटी का अहम हिस्सा माना जाता है। लेकिन यह भी समझने की ज़रूरत है कि हर महिला में हाइमन की रुपरेखा अलग होती है और ज़रूरी नहीं कि हर महिला में हाइमन के फटने पर ब्लीडिंग हो।

# एक बेहतर सेक्स के लिए पुरुष के प्राइवेट पार्ट का साइज काफी मैटर करता है। सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि खुद पुरुष भी ऐसा मानते हैं। सेक्शुअल प्लैज़र से प्राइवेट पार्ट के साइज़ का कोई मतलब नहीं होता है। 

# अगर कॉन्डम टाइट होगा तो यह प्रेग्नेंसी और सेक्स संबंधी अन्य बीमारियों से बचाने में मदद करेगा, लेकिन सच तो यही है कि टाइट कॉन्डम की वजह से काफी परेशानी होती है। 

No comments