सरकारी नौकरी

होलिका दहन: होली शुभ मुहूर्त और होली पूजन की विधि


होली का त्यौहार अच्छाई पर बुराई पर अच्छाई की जीत के जश्न के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष होलिका 20 और 21 मार्च को मनाई जाएगी। 20 मार्च बुधवार को होलिका दहन किया जाएगा और 21 मार्च गुरुवार के दिन रंगों की होली खेली आएगी। शास्त्रों के अनुसार होली का फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन होली मनाई जाती है। और अगले दिन अबीर-गुलाल से होली खेलने की परंपरा है।

पूजा का शुभ मुहूर्त:

इस पार इस बार होली का दहन भद्रा दशा में होने की वजह से इसका शुभ मुहूर्त रात 9:01 से मध्य रात्रि 12:20 तक रहेगा। पूर्णिमा तिथि का आरंभ 20 मार्च की सुबह 10:44 पर हो जाएगा और पूर्णिमा तिथि के अगले दिन यानी 21 मार्च को 7:10 तक रहेगा। भद्रा को विघ्न कारक माना जाता है और इस समय होलिका दहन करने से हानि और अशुभ फलों की प्राप्ति होती।

होलिका पूजन और महत्‍व :

होलिका दहन की पूजा के दौरान होलिका पर हल्दी का टीका जरूर लगाएं। इससे घर में सुख समृद्धि आती है। होलिका के चारों ओर अबीर गुलाल से रंगोली बनाएं और उसमें पांच फल और मिठाई चढ़ा देंं। होलिका की सात बार परिक्रमा करके जल अर्पित करें। 

No comments