सरकारी नौकरी

मंदिर में परिक्रमा लगाने से पहले जान लें ये बातें, वरना हो जायेगा नुकशान


अक्सर मंदिर जाकर पूजा पाठ करना तो बेहद आम बात है, लेकिन अक्सर आप भी मंदिर में जाकर परिक्रमा लगाते हैं लेकिन बहुत कम लोग इसके पीछे की मान्यता के बारे में जानते हैं। वैसे अक्सर ही मंदिर जाकर पूजा आरती के बाद हर कोई 5 या 7 बार परिक्रमा लगाता है और बिना परिक्रमा के पूजा सफल नहीं मानी जाती है। 

परिक्रमा की मान्यता:

भगवान गणेश जी की अपने भाई कार्तिक के साथ पूरी सृष्टि के चक्कर लगाने की शर्त लगी थी, लेकिन गणेश जी ने सिर्फ अपने माता पिता के ही तीन चक्र लगाए उन्हें विजय प्राप्त हुई थी, क्योंकि पूरी सृष्टि माता पिता के चरणों में ही हैं। इसी आधार पर भगवान को अपना माता पिता मानकर हर कोई परिक्रमा लगाता है।

परिक्रमा के फायदे:

परिक्रमा लगाने से भगवान की कृपा बरसती है और इससे आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। इसी के साथ व्यक्ति के घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है। ऐसे लोगों के साथ भगवान हमेशा साए की तरह बने रहते हैं।

No comments