सरकारी नौकरी

loading...

छठ पर्व पर क्यों की जाती है सूर्य पूजा, जानिए असली वजह


अक्सर छठ पूजा का पर्व  बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत देश के भिन्न भिन्न बड़े- बड़े शहरो में मानाया जाता है। जिसमे लोग उगते हुए सूर्य को नमस्कार किया जाता है। छठ पूजा एक ऐसा अनोखा त्यौहार  है, जिसका प्रारम्भ सूर्य अस्त से किया जाता है। ‘छठ' शब्द ‘षष्ठी' से बना है, जिसका अर्थ ‘छह' है, इसी कारण पर्व  चंद्रमा के आरोही चरण के छटवे दिन, कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष पर मनाया जाता है।

क्यों की जाती है सूर्य पूजा:

इस त्योहार का उद्देश्य सूर्य से अपनेपन और निकटता को महसूस करना है। सूर्य को जल अर्पित करने का अर्थ है कि हम संपूर्ण हृदय से आपके (सूर्य के) आभारी हैं और यह भावना प्रेम से उत्पन्न हुई है।

इसमें दूध से भी अर्घ्य देते हैं। दूध पवित्रता का प्रतीक है। दूध को पानी के साथ अर्पित किया जाना इस बात को दर्शाता है कि हमारा मन और हृदय दोनों पवित्र बने रहें। सूर्य इस ग्रह पर सभी आहार का स्रोत है।

सूर्य के प्रति कृतज्ञता की गहन भावना के साथ प्रसाद बनाया जाता है। सब्जियों, मिठाइयों और विभिन्न खाद्य पदार्थों को सूर्य को यह कहते हुए अर्पित किया जाता है कि ‘यह सब आपका है, यहां मेरा कुछ भी नहीं है।'

No comments