सरकारी नौकरी

loading...

अगर जीवन में नहीं शत्रुओं की कोई कमी तो अपनाएं चाणक्य की ये नीतियां


अगर आपको अपने शत्रुओं से निपटना है तो इस विषय में भी चाणक्य की नीति अपनाई जा सकती है। चाणक्य की चाणक्य नीति पुस्तक में दुश्मन को परास्त करने का भी वर्णन मिलता है और इसी के साथ चाणक्य के अनुसार शत्रु को कभी कमजोर नहीं समझना चाहिए। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं जब आपके खूब शत्रु हो जाए तो आपको क्या करना चाहिए।

अपनाएं चाणक्य की ये नीति:

# आचार्य चाणक्य के अनुसार अपने शत्रु से एक खिलाड़ी की तरह निपटना चाहिए। आचार्य चाणक्य ने बताया है शत्रुओं से घिरे होने पर घबराना नहीं चाहिए और हर वक्त सतर्क रहना चाहिए।

# आचार्य चाणक्य के मुताबिक शत्रु से घिरे होने पर भागना नहीं चाहिए क्योंकि इससे आपकी शक्ति क्षीण हो सकती है।

 #आचार्य चाणक्य के मुताबिक अगर शत्रु आपके समान बलशाली है तो उसे विनय पूर्वक पराजित किया जा सकता है।

# आचार्य चाणक्य के अनुसार अगर शत्रु अधिक बलशाली है तो उसे उसी की तरह व्यवहार करके पराजित किया जा सकता है।

 #आचार्य चाणक्य के अनुसार शत्रु के बारे में पूर्ण जानकारी हासिल कर लेने से आप अपने शत्रु पर 75 प्रतिशत जीत हासिल कर लेते हैं इसी के साथ बड़ी आसानी से मात दे सकते हैं।

No comments