सरकारी नौकरी

loading...

छोटे-छोटे बच्चों बढ़ रही है डायबिटीज की समस्या, सामने आई ये चौंकाने वाली वजह


आजकल डायबिटीज के मरीज दिन पर दिन बढ़ते जा रहे है। डायबिटीज की बीमारी बच्‍चों को भी अपनी गिरफ्त में लेने लगा हैं। बच्‍चों में होने वाले डायब‍िटीज को टाइप 1 भी कहा जाता है। खाने-पीने से जुड़ी ख़राब आदतें इस बीमारी के होने का मुख्य कारण होता है। समय रहते कुछ लक्षणों पर गौर करके आप इस बीमारी का पता लगा सकते हैं और इस बीमारी का न‍िदान भी करवा सकते हैं।

बच्‍चों में डायबिटीज के मुख्‍य लक्षण:

# कार्बोहाइड्रेट के अधिक सेवन से यह शरीर में फैट के रूप में जमा हो सकता है। शुगर, चॉकलेट और मिठाई आदि से पैन्क्रीऐटिक ग्लैंड पर भार बढ़ता है। इससे इंसुलिन सेल्स के क्रमिक थकावट से डायबिटीज हो जाता है।

# बच्चे को डायबिटीज होना जेनेटिक कारण भी है। अगर पेरेंट्स में किसी को डायबिटीज है, तो बच्चा इस बीमारी के साथ पैदा हो सकता है या उसे 25 से 50 वर्ष की उम्र में इसका खतरा हो सकता है।

# कुछ वायरल इन्फेक्शन से टाइप 1 डायबिटीज का खतरा हो सकता है क्योंकि वे इंसुलिन सेल्स को नष्ट कर देते हैं। हालांकि यह डायबिटीज का आम कारण नहीं है।

# ज्‍यादा ठंड में रहने से इम्यून सिस्टम लड़ने के लिए एंटीबॉयटिक का उत्पादन करता है। इस वजह से ज्‍यादात्तर एंटीबॉयटिक ठंड को नष्ट करने के लिए खत्म हो जाते है इससे इंसुलिन कम होता है और डायबिटीज का खतरा होता है।

No comments