सरकारी नौकरी

loading...

कमल नाथ सरकार पर संकट के बादल, डंग का इस्तीफा


मध्य प्रदेश की सियासत में कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के इस्तीफे ने भूचाल ला दिया है, डंग की राह पर और भी विधायकों के बढ़ने की आशंका के चलते कमलनाथ सरकार के मुश्किल में पड़ने के आसार बनने लगे हैं। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के कुछ विधायक डंग की राह पर बढ़ सकते हैं, जिससे कमलनाथ सरकार मुश्किल में पड़ सकती है।

वर्तमान विधानसभा की स्थिति पर गौर करें तो पता चलता है, राज्य में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं है। राज्य की 230 सीटों में से 228 विधायक हैं, दो सीटें खाली हैं। कांग्रेस के 114 और भाजपा के 107 विधायक हैं। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार निर्दलीय चार, बसपा के दो और सपा के एक विधायकों के समर्थन से चल रही है।

राजनीति के जानकारों की मानें तो भाजपा की नजर कांग्रेस के तीन विधायक, तीन निर्दलीय और बसपा के दो व सपा के एक विधायक पर है, अगर यह भाजपा के साथ आ जाते हैं अथवा तटस्थ रहते हैं तो सरकार की मुश्किल बढ़ सकती है। क्योंकि कांग्रेस और भाजपा में सिर्फ सात विधायकों का अंतर है।

विधायकों के तटस्थ रहने से कांग्रेस की राज्यसभा की सीट पर भी असर पड़ सकता है, क्योंकि एक सदस्य के लिए 58 विधायकों का समर्थन चाहिए, इस स्थिति में कांग्रेस और भाजपा के एक एक सदस्य का चुना जाना तय है, वहीं दूसरी सीट पाने के लिए दोनों दलों के पास आंकड़ा कम है। कांग्रेस के पास 56 विधायक हैं, वहीं भाजपा के पास 49 विधायक हैं।

राज्य में कमलनाथ सरकार को समर्थन देने वाले कांग्रेस के अलावा सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों को करोड़ों का ऑफर दिए जाने और 10 विधायकों को बंधक बनाए जाने के कांग्रेस के आरोपों के बाद तीन दिन से राज्य की सियासत गर्माई हुई है। नया मोड़ तीन दिन से गायब चल रहे मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक हरदीप सिंह डंग द्वारा इस्तीफा दिए जाने से आ गया है।

डंग ने गुरुवार की देर शाम को विधानसभाध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ को अपना इस्तीफा भेजा है, डंग इन दिनों कहां है, इसकी पुष्टि नहीं हो पा रही है। अभी भी कांग्रेस के दो विधायक बिसाहू लाल सिंह और रघुराज सिंह कंसाना और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा भोपाल से बाहर हैं। कहा जा रहा है कि चारों विधायक बेंगलुरु में हैं।

No comments