सरकारी नौकरी

loading...

इस दिन भूलकर भी नहीं करना चाहिए अपनी बेटी की विदाई, जानिए


हमारे हिन्दू धर्म में कई मान्यताएं है। बुधवार के दिन प्रथम पूज्नीय गणेश जी को माना जाता है। अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी घर में कोई भी शुभ काम करते हैं तो सबसे पहला निमत्रंण गणपति जी को दिया जाता है। परन्तु आपको बता दें कि इन बातों के बावजूद क्या आप जानते हैं कि बुधवार के दिन बेटियों को ससुराल में नहीं भेजा जाता है।

नहीं करना चाहिए अपनी बेटी की विदाई:

ज्योतिष शास्त्र में ऐसा कहा गया है कि बुधवार के दिन बेटियों को विदा करना शुभ नहीं होता है। ऐसी मान्यता है कि बुधवार के दिन अपनी बेटियों को ससुराल के लिए विदा नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही इस दिन बेटी को विदा करने से रास्ते में किसी प्रकार की दुर्घटना होने की संभावना रहती है।

इससे आपकी बेटी का अपने ससुराल से संबंध भी बिगड़ सकता है। शास्त्र में इस अपशकुन से जुड़े कारणों की भी व्याख्या है। एक पौराणिक मान्यता के मुताबिक 'बुध' ग्रह 'चंद्र' को शत्रु मानता है परन्तु 'चंद्रमा' के साथ ऐसा नहीं है, वह बुध को शत्रु नहीं मानता है।

इसके साथ ही ज्योतिष में चंद्र को यात्रा का कारक माना जाता है और बुध को आय या लाभ का। इसलिए बुधवार के दिन किसी भी तरह की यात्रा करना नुकसानदेह माना गया है। यदि बुध खराब हो तो दुर्घटना या किसी तरह की अनिष्ट घटना होने की संभावना बढ़ जाती है।

No comments