सरकारी नौकरी

loading...

बिल्वपत्र तोड़ते समय इन बातों का रखें ध्यान, वरना होगा नुकशान


भगवान भोलेनाथ के पूजन में अभिषेक व बिल्वपत्र का प्रथम स्थान माना गया है। अगर उनको बिल्वपत्र चढ़ाये जाए और उनका अभिषेक किया जाए तो बड़ा लाभ होता है। केवल इतना ही नहीं बल्कि ऋषियों ने तो यह तक कहा है कि 'बिल्वपत्र भोले-भंडारी को चढ़ाना एवं 1 करोड़ कन्याओं के कन्यादान का फल एक समान है।'

इन बातों का रखें ध्यान:

बेल का वृक्ष जिसके घर में होता है वहां संपूर्ण सिद्धियों का आश्रय स्थल बन जाता है। जिस घर में यह होता है वहां सुख समृद्धि बनी रहती है।

इस वृक्ष के नीचे स्तोत्र पाठ या जप करने से उसके फल में अनंत गुना की वृद्धि हो जाती है। इसके अलावा जल्द ही सिद्धि भी मिल जाती है।

केवल इतना ही नहीं कहा जाता है इसके फल की समिधा से लक्ष्मी का आगमन होने लगता है और इसको खाने से कान के साथ ही कई प्रकार के रोगों से राहत मिलती है।

No comments