सरकारी नौकरी

loading...

शादी के दौरान दूल्हा-दुल्हन क्यों नहीं पहनते हैं काले कपड़े, जानिए बड़ा राज


शादी हर किसी के जीवन का सबसे बड़ा सपना होता है। हिंदू धर्म में विवाह को सोलह संस्कारों में से एक संस्कार माना गया है। हिन्दू विवाह पद्धति में कुछ परंपराएं ऐसी हैं जिनका निर्वाह प्राचीन काल से किया जा रहा है जैसे शादी के समय दूल्हा-दुल्हन को काले कपड़े न पहनने देना।

क्यों नहीं पहनते हैं काले कपड़े:

काला रंग अशुभता का प्रतीक है। काला रंग ओजस्विता कम करता है, अवसादकारक एवं उत्पीड़क बोझ देने वाला है। दुल्हन के लिए बनाए जानी वाली प्रत्येक वस्तु में लाल रंग को अत्यधिक महत्व दिया जाता है। लाल रंग गर्मजोशी और मनोबल बढ़ाता है साथ ही लाल रंग प्यार, रोमांस और पैशन का प्रतीक माना जाता है।


वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो लाल रंग ऊर्जा का मुख्य स्तोत्र है। जिससे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। इसके विरुद्ध दूल्हा-दुल्हन के लिए नीले, भूरे और काले रंगों को निषिद्ध किया गया हैं क्योंकि ये रंग नकारात्मकता का प्रतीक हैं।


No comments