सरकारी नौकरी

loading...

सेहत: केले का रंग बताता है कि वो आपके लिए फायदेमंद है या नहीं, जानिए कैसे


केले में विटामिन, आयरन और फाइबर पाया जाता है, कुछ लोगों का मानना है कि केले के सेवन से इंसान मोटा हो जाता है, लेकिन अगर आप पर्याप्त मात्रा में वर्क आउट करते हैं तो ऐसा नहीं होगा। केले के उत्‍पादन की बात करें तो को देखे तो भारत का नंबर दूसरा है पके केले उत्‍तम पौष्टिक खाद्य होकर केले के फूल, कच्‍चे फल व तने का भीतरी भाग सब्जी के लिए उपयोग में लाया जाता है। 

कैसे जानें केला फायदेमंद है या नहीं:

ऑस्ट्रेलिया के मशहूर स्पोर्ट्स डाइटीशियन रॉयन पिंटो ने केले के गुणों पर एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें बताया था कि इसका सेवन इसके बदलते रंगों के आधार पर करके ज्यादा पौष्टिकता हासिल की जा सकती है। 

रॉयन के मुताबिक पीला केला मुलायम और ज्यादा मीठा होता है। इसमें शुगर ज्यादा होती है फिर भी सुपाच्य होता है। 

वहीं अगर आप पूरी तरह से हरा केला लेते हैं जोकि कच्चा होता है उसका प्रयोग सब्जी आदि बनाने में किया जाता है।

केले पर पड़े भूरे रंग के धब्बे सिर्फ केले की आयु ही नहीं बताते हैं बल्कि ये भी संकेत देते हैं कि इसका अधिकांश स्टार्च शुगर में बदल चुका है। किसी केले पर जितने भूरे धब्बे होंगे उसमें उतनी ही शुगर होगी। 

केले पर काले धब्बे या काले निशान नहीं होना चाहिए, अगर धब्बे हैं तो ऐसा नहीं लेना चाहिए क्योंकि ये जल्दी ही खराब हो जाएगा। केला ऐसा फल है जो ज्यादा नहीं चलता है और दो-तीन दिन में ही खराब होने लग जाता है।

केले के छिलकों पर अगर हरापन दिखे तो वो केला पूरी तरह से पका नहीं है यानि उसमें आपको स्वाद नहीं मिलेगा।

No comments