सरकारी नौकरी

loading...

लड़कियों को क्यों होता है वैजाइनल इन्फेक्शन, क्या है इसकी असली वजह


अक्सर लड़कियों को प्राइवेट से सम्बंधित कई दिक्कतें हो जाती है। स्त्रियों के वजाइना में कैंडिडा एल्बीकैंस नामक फंगस मौजूद होता है। कई बार इसकी संख्या बहुत तेज़ी से बढ़ने लगती है, जिससे खुजली, जलन और रैशेज़ जैसी समस्याएं परेशान करती हैं। अधिकतर स्त्रियों को वजाइना में जलन और खुजली जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जिसे यीस्ट या वजाइनल इन्फेक्शन के नाम से जाना जाता है। 

वजाइनल इन्फेक्शन:

वजाइना से सफेद रंग का गाढ़ा-बदबूदार डिस्चार्ज, खुजली, जलन और प्रभावित हिस्से पर लाल रंग के रैशेज़ दिखाई देते है। मर्ज बढऩे पर त्वचा में सूजन और छिलने-कटने की भी आशंका रहती है।

मनोपॉज़ के बाद स्त्रियों के शरीर में प्रोजेस्टेरॉन और एस्ट्रोजेन नामक फीमेल हॉर्मोन की मात्रा घटने लगती है। जिससे वजाइना में ड्राइनेस की समस्या शुरू हो जाती है और इस समस्या के लक्षण नज़र आने लगते हैं।    

यीस्ट नामक फंगस शरीर में मौज़ूद अतिरिक्त शुगर को ही अपना भोजन बना लेता है। इसलिए अधिक मात्रा में मीठी चीज़ों का सेवन करने वाले लोगों में यह इन्फेक्शन होने आशंका बढ़ जाती है।

No comments